Zip Code Kya Hota Hai? पिन कोड और जिप कोड में क्या अंतर है?

जिप कोड का इस्तेमाल लगभग सभी लोग करते है, वर्तमान समय में ऑनलाइन शॉपिंग से लेकर फॉर्म भरने तक के बहुत सारे कामो में जिप कोड की जरुरत पढ़ती है| लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते है जिन्हे जिप कोड का नाम तो पता होता है लेकिन जिप कोड के बारे अधिक जानकारी नहीं होती है| अगर आप भी ऐसे लोगो में शामिल है जिन्हे जिप कोड के बारे में जानकारी नहीं है तो हमारा यह लेख आपके लिए बहुत ज्यादा लाभकारी साबित होने वाला है क्योंकि आज हम अपने इस लेख में जिप कोड क्या होता है? जिप कोड की फुल फॉर्म हिंदी और अंग्रेजी में क्या होती है? इत्यादि जानकारी उपलब्ध करा रहे है| काफी सारे लोग यह मानते है की जिप कोड और पिन कोड एक होता है तो हम आपको बता दें पिन कोड और जिप कोड अलग अलग होता है इसके बारे में हम आप नीचे जानकारी दें रहे है| पिन कोड और जिप कोड में अंतर के बारे में बताने से पहले हम आपको जिप कोड क्या है?( zip code kya hota hai) के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

Zip Code क्या है? (Zip code kya hota hai)

जिप कोड 5 अंको की एक विशिष्ट संख्या को कहा जाता है, जिप कोड की मदद से किसी भी स्थान की पहचान आसानी से हो जाती है| काफी सारे लोगो के मन में यह सवाल रहता है की आखिर जिप कोड कया होता है? दरसल जिप कोड किसी भी जगह का एड्रेस भी कहा जा सकता है| दरसल आज के जमाना इंटरनेट का है इसीलिए अधिकतर इंसान मेसेज या विशेष को सोशल मीडिया या मेसेंजर पर भेज देते है| लेकिन पहले के ज़माने में ऐसा नहीं था पहले के ज़माने में किसी भी इंसान को दूसरे इंसान के पास डाक द्वारा सन्देश भेजना पड़ता था| ऐसे में सही इंसान के पास आपकी डाक पहुँच जाएं इसके लिए जिप कोड का इस्तेमाल शुरू किया गया था, किसी पार्सल या डाक को एग्जैक्ट लोकेशन पर भेजने के लिए जिप कोड की जरुरत होती है|

अगर जिप कोड ना हो तो सोचिए आप डाक या पार्सल को सही जगह कैसे पहुंचाएंगे और डाक पहुंचाने में कितना ज्यादा समय लगेगा| हालाँकि जिप कोड का इस्तेमाल होने के बाद डाक और पार्सल काफी कम समय में सही लोकेशन पहुँच जाता है| आपको बता दें की जिप कोड की शुरुआत यूनाइटेड स्टेट्स पोस्टल सर्विसेज के द्वारा वर्ष 1963 में की गई थी|

Zip Code का फुलफॉर्म क्या है

ऊपर आपने जिप कोड(zip code kya hota hai) के बारे में जानकारी प्राप्त की, चलिए अब हम आपको जिप कोड की फुल फॉर्म हिंदी और अंग्रेजी में के बारे में जानकारी दे रहे है|

Zip Code Full Form In English – Zonal Improvement Plan

Zip Code Full Form In Hindi – जोन सुधार योजना

Zip Code कितने अंक का होता है?

जिप कोड या जोनल इम्प्रूवमेंट प्लान एक 5 अंको का कोड होता है, जिप कोड का पहला अंक राष्ट्रीय क्षेत्र को शो करता है, उसके बाद के दो अंक उस क्षेत्र में स्थित जिले के पोस्ट ऑफिस के बारे में जानकारी देते है| अंतिम दो अंक लोकल पोस्ट ऑफिस के बारे में जानकारी उपलब्ध कराते है, इसी तरह से आपकी डाक या पार्सल उस स्थान पर आसानी से पहुँच जाता है जहाँ पर आप उसे भेजन चाहते है| जिप कोड की मदद डाक या पार्सल बहुत ही आसानी से उस पते या एड्रेस पर पहुँच जाता है, अमेरिका में जिप कोड की शुरुआत होने के बाद डाक खोने या गायब होने वाले या सही स्थान पर ना पहुँचने वाली डाको या पत्रों की संख्या में भरी कमी आई थी| जिप कोड को पहले से बेहतर और सटीक बनाने के लिए कुछ समय बाद जिप कोड में चार अंक और जोड़े गए थे, सरल भाषा में समझे तो दरसल सबसे पहले स्टेट, फिर डिस्ट्रिक्ट आता है, डिस्ट्रिक्ट के अंदर छोटे छोटे कसबे या गांव भी होते है| ऐसे में 5 अंको के जिप कोड से सही एड्रेस ढूंढ़ने में काफी परेशानी होती है| जिप कोड की इस कमी को दूर करने के लिए चार अंको को और जोड़ा गया, वर्तमान समय में जिप कोड 9 अंको का हो गया है| 9 अंको का जिप कोड होने के बाद एड्रेस ढूढ़ने में काफी ज्यादा आसानी हो गई थी|

READ ALSO  Bhasha Kise Kahate Hain? भारत की राष्ट्र भाषा क्या है?

Country Zip Code क्या होता है?

हर एक देश का कोड अलग अलग होता है, जब भी आप किसी भी जिप कोड को देखेंगे तो जिप कोड का पहला अंक उस देश को दर्शाता है| अगर आपको Country Zip Code के बारे में जानकारी नहीं है तो हम आपको इसके बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है|  Country Zip Code 0 से लेकर 9 नंबर तक अलग अलग देश के लिए एक नंबर दिया है, जिनके बारे मे आप नीचे जान सकते है|   यहां पर में किसी भी country के zip code का पहला एक number के बारे में बात किया हूँ|

1 – अगर जिप कोड की शुरुआत Zero number या 0 से होती है तो यह जिप कोड सेन जाक घर यूरोप, पोतावली डाक घर यूरोप, आइलैंड, वरमॉण्ड, न्यूयॉर्क, न्यू जर्सी, न्यू हैम्पशायर, मैसाचुसेट्स, कनेक्टिकट का है| 

2 – 1 या एक नंबर से शुरू होने वाले जिप कोड कंट्री के नाम है न्यूयॉर्क, डेलावेयर और पेन्सिलवेनिया

3 – 2 या दो नंबर से शुरू होने वाले जिप कोड कंट्री के नाम है – मैरीलैण्ड, दक्षिण कैरोलाइना, उतर कैरोलाइना, वर्जीनिया और पश्चिम वर्जीनिया|

4 – 3 या तीन नंबर से शुरू होने वाले जिप कोड कंट्री के नाम महाअमेरिका, पोतावली डाक घर, सेना डाक घर महाअमेरिका, अलाबामा, जॉर्जिया, फ्लोरिडा, टेनेसी और मिसिसिपी है|

5 – 4 या चार नंबर से स्टार्ट होने वाले जिप कोड कंट्री के नाम ओहायो, मिशिगन और इण्डियाना इत्यादि है|

6 – 5 या पांच नंबर से स्टार्ट होने वाले जिप कोड कंट्री के नाम दक्षिण डकोटा, उतर डकोटा, मॉण्टान, मिनिसोटा, विस्कॉन्सिन और आयोवा इत्यादि है|

7 – 6 या छह नंबर से शुरू होने वाले जिप कोड कंट्री के नाम इलिनॉय, नब्रास्का, मिजूरी और कैन्सस है|

8 – 7 या सात नंबर से शुरू होने वाले जिप कोड कंट्री के नाम है – आर्कन्सा, टैक्सास, 

लुइजियाना और ओक्लाहोमा|

9 – 8 या आठ नंबर से स्टार्ट होने वाले जिप कोड कंट्री नाम वायोमिंग, यूटा, नेवादा, न्यू मेक्सिको, ऐरीजोना, कॉलोराडो और इडाहो है|

10 – 9 नंबर से शुरू होने वाले जिप कोड कंट्री के नाम अलास्का, अमेरिकि समोआ, हवाई, कैलीफोर्निया, माइक्रोनेशिया के राज्य, उतरी मैरियाना द्विपसमुह, पोतावली डाक घर, सेना डाक घर प्रशान्त क्षेत्र और वाशिंगटन है|

पिन कोड और जिप कोड में क्या अंतर है?

कुछ लोगो का मानना है की पिन कोड और जिप कोड एक ही होते है हालांकि यह सच नहीं है| पिन कोड और जिप कोड में कई सारे अंतर देखने को मिलते है| अगर आपको पिन कोड और जिप कोड में अंतर के बारे में जानकारी नहीं है तो परेशान ना हो अब हम आपको जिप कोड और पिन कोड में अंतर के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

1 – जिप कोड का इस्तेमाल अमेरिका और फिलीपींस में किया जाता है, इनके आलावा लगभग सभी देशो में पिन कोड या पोस्टल कोड का इस्तेमाल किया जाता है| अमेरिका और फिलीपींस में डाक वितरण करने के लिए जिप कोड का निर्माण किया गया था, जिप कोड के माध्यम से देश के प्रत्येक क्षेत्र को एक अलग विशेष कोड दिया जाता है|

READ ALSO  Demat Account Kya Hota Hai? डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान

2 – पोस्टल कोड का इस्तेमाल स्थान या जगह की पहचान करने के साथ साथ मार्ग योजना बनाने और जनसांख्यिकीय जानकारी एकत्रित करने के लिए किया जाता है, दूसरी तरफ ज़िप कोड का निर्माण क्षेत्रों को वर्गीकृत करने के लिए किया गया है, जिससे डाक या पार्सल को छाँटने में और उस जगह की पहचान करना है जो एड्रेस डाक या पार्सल पर लिखा होता है|

3 – जिप कोड की शुरुआत वर्ष 1963 में अमेरिका में हुई थी जबकि पिन कोड की शुरुवात वर्ष 1959 में रूस में हुई थी

4 – पिन कोड की फुल फॉर्म पोस्टल इंडेक्स नंबर और जिप कोड की फुल फॉर्म जोनल इम्प्रूवमेंट प्लान होती है।

5 – पिन कोड में 6 अंक होते है, पिन कोड अलग अलग देशो में अलग तरह के फॉर्मेट में देखने को मिलते है| कुछ देशो में पिन कोड केवल न्यूमेरिक नंबर का होता है और कुछ देशो में पिन कोड अल्फान्यूमेरिक होता है| दूसरी तरफ जिप कोड 9 आँखों का होता है हालांकि शुरुआत में जिप कोड 5 अंकों का था कुछ वर्षो बाद जिप कोड को और ज्यादा बेहतर और सटीक बनाने के लिए इसमें 4 अंक और जोड़ दिए गए थे|

जिप कोड का उपयोग

आज के समय में जिप कोड का इस्तेमाल ऑफलाइन और ऑनलाइन बहुत सारी अलग अलग जगहों पर किया जाता है| सरल भाषा में आप ऐसे भी समझ सकते है की बिना जिप कोड के काफी सारे काम रुक जाते है, चलिए अब हम आपको जिप कोड का इस्तेमाल ऑनलाइन ओर ऑफलाइन कैसे होता है? इसके बारे में जानकारी उपलब्ध कराते है

ऑनलाइन वर्क में बहुत सारी जगहों पर आपको अपनी प्रोफाइल बनानी पड़ती है या अपना एड्रेस डालना पड़ता है| youTube चैनल बनाने के लिए, ब्लॉग्गिंग में, सोशल मीडिया साईट पर रजिस्ट्रेशन, e-commerce स्टोर बनाने इत्यादि में जिप कोड की जरुरत पड़ती है| काफी सारी जगहों पर अगर आप जिप कोड नहीं लिखते है तो आपकी प्रोफाइल पूर्ण नहीं होती है| इसके अलावा ऑनलाइन शॉपिंग तो लगभग सभी करते ही है, ऑनलाइन शॉपिंग करते समय सबसे पहले आपको जिप कोड को डालना होता है| फिर वेबसाइट आपके जिप कोड को चेक करके आपको बताती है की आपके यहां प्रोडक्ट डिलीवर हो सकता है या नहीं, अगर आपके पास जिप कोड नहीं है तो आप ऑनलाइन शॉपिंग भी नहीं कर सकते है|

ऑफलाइन भी जिप कोड का इस्तेमाल बहुत ज्यादा किया जाता है, अगर आपको कहीं पर भी या किसी भी इंसान के पास डाक या पार्सल भेजना हो तो आपको उस इंसान का नाम , पता और जिप कोड की जरुरत होती है| अगर आपको उस इंसान के एड्रेस का जिप कोड नहीं पता होता है तो आपके द्वारा भेजा जा रहा पार्सल या डाक के पहुँचने की संभावना काफी कम होती है| इसके अलावा बहुत सारे ऑफलाइन वर्क जैसे कि Insurance Form, Driving Licence, Bank Passbook , ऑफलाइन फॉर्म भरने में इत्यादि में जिप कोड का इस्तेमाल होता है| बिना जिप कोड के आप ऑफलाइन भी बहुत सारे काम नहीं कर सकते है, कुल मिलकर आप ऐसे भी समझ सकते है की ऑनलाइन हो या ऑफलाइन जिप कोड हर जागर पर बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है|

अपने क्षेत्र या एरिया का जिप कोड कैसे पता करें

पहले के समय में जिप कोड सर्च करना थोड़ा मुश्किल का काम था लेकिन आज का जमाना इंटरनेट का युग है आपको आपकी हर परेशानी का जवाब इंटरनेट पर आसानी से मिल जाता है| अगर आपको अपने क्षेत्र या एरिया का जिप कोड पता नहीं है तो सबसे पहले आपको मोबाइल या लैपटॉप में वेब ब्राउज़र को ओपन करके गूगल सर्च इंजन खोलना है| उसके बाद गूगल फाइंड जिप कोड लिखकर एंटर कर दें, अब आपके सामने काफी वेबसाइट खुलकर आ जाएंगी| सभी वेबसाइट जिप कोड के बारे में जानकारी उपलब्ध कराती है वैसे सभी वेबसाइट पर जिप कोड सर्च करने का तरीका लगभग एक सामान होता है, अधिकतर वेबसाइट पर जिप कोड सर्च करने के लिए सबसे पहले आपको अपने राज्य का सिलेक्शन करना होता है, उसके बाद अपने जिले को सेलेक्ट करें, फिर उस जिले के अंदर अपने क्षेत्र को सेलेक्ट कर दें| अपना क्षेत्र सेलेक्ट करने के बाद जैसे ही आप सबमिट पर क्लिक करेंगे आपके सामने आपके क्षेत्र का जिप कोड आपके सामने आ जाता है| कुछ वेबसाइट में आपको अपना एड्रेस डालना होता है जैसे ही आप अपना एड्रेस डालकर सर्च करते है तो वेबसाइट आपको आपके एरिया या क्षेत्र का जिप कोड उपलब्ध करा देती है|

READ ALSO  सीबीसी टेस्ट Kya Hai? CBC Test Full Form in Hindi

जिप कोड से एड्रेस कैसे निकालें

ऊपर आपने जाना की कैसे आप अपने एड्रेस का जिप कोड कैसे पता करें? लेकिन क्या आपको पता है की जिप कोड से आप किसी का एड्रेस भी आसानी से पता करते है| सरल भाषा में आप ऐसे भी समझ सकते है मान लीजिए आपको अपने दोस्त का नाम और जिप कोड याद है लेकिन आपको उसका एड्रेस कन्फर्म नहीं है, तो ऐसी स्थिति में आप अपने दोस्त के घर कैसे पहुंचेंगे? तो हम आपको बता दें की जिप कोड की मदद से आप आसानी से अपने दोस्त के घर पहुँच जाएंगे| यह तो आप ऊपर पढ़ चुके है की जिप कोड 9 अंको का होता है, जिप कोड के 9 अंको में आपके एड्रेस की पूर्ण जानकारी होती है, जिप कोड सबसे पहले स्टेट, फिर डिस्ट्रिक्ट और फिर आपके एरिया का नंबर का होता है जिनकी मदद से आप आसानी से एड्रेस निकाल सकते है| आज के समय में बहुत सारी ऐसी वेबसाइट भी उपलब्ध है, जिनमे आप जिप कोड डालकर आसानी से एड्रेस पता कर सकते है|

Zip Code का इतिहास?

जिप कोड के बारे में आप ऊपर पढ़ चुके है लेकिन काफी सारे लोगो के मन में यह सवाल भी रहता है की जिप कोड का इतिहास क्या है? यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ़ अमेरिका ने सबसे पहले जिप कोड की शुरुआत हुई थी, द्वितीय विश्व युद्ध के बाद जिप कोड का निर्माण किया गया था| दरसल शुरूआती दौर में संयुक्त राज्य महाद्वीप में सूचना का अदान प्रदान करने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता था, उसके बाद रॉबर्ट मून ने यूनाइटेड स्टेट्स पोस्टल सर्विस का आविष्कार करने में अहम् रोल निभाया था| फिर सबसे पहले देश के अलग अलग राज्यो को एक नंबर दिया गया, उसके बाद राज्य के अंदर डिस्ट्रिक्ट को एक नंबर दिया गया| शुरुआत में जिप कोड 5 अंको का नंबर रखा गया, औपचारिक रूप से वर्ष 1963 में जिप कोड की शुरुआत की गई| वर्ष 2001 में जब रोबर्ट मून का निधन वर्ष 2001 में हुआ तो मून को जिप कोड में पहले तीन अंकों को बनाने या निर्माण करने का श्रेय दिया गया था। जिप कोड आने बाद सूचनाओं का अदान प्रदान बहुत तेजी से होने लगा था, धीरे धीरे ट्रकों और हवाई जहाजों के माध्यम से परिवहन की एक नई दुनिया भी विकसित हो रही थी, ट्रक और हवाई जहाज रेल के मुकाबले सामान को अधिक कुशलता और आसानी से ले जाने में सक्षम साबित हो रहे थे। जैसे जैसे समय बीतता गया वैसे वैसे अमेरिकी समाज में जिप कोड का इस्तेमाल बढ़ता चला गया, जिप कोड का लाभ आम लोगो के साथ साथ अमेरिकी सरकार को भी काफी ज्यादा पहुंचा| संयुक्त राज्य की जनगणना को व्यवस्थित करने के लिए जिप कोड का इस्तेमाल किया जाने लगा| धीरे धीरे ऑनलाइन और ऑफलाइन कामो में जिप कोड का इस्तेमाल किया जाने लगा|

इंडिया का जिप कोड क्या है?

काफी सारे इंसान इंटरनेट पर सर्च करते है की इंडिया का जिप कोड क्या है? तो सबसे पहले हम आपको बता दें की भारत में जिप कोड नहीं होता है| भारत में जिप कोड की जगह पिन कोड या पोस्टल कोड होता है और इंडिया में पिन कोड 6 अंको का होता है, भारत के प्रत्येक राज्य और राज्य के क्षेत्र के अनुसार हर जगह का पिन कोड अलग होता है|

निष्कर्ष –

हम आशा करते है की आपको हमारे लेख जिप कोड कया होता है?( zip code kya hota hai) में दी गई जानकारी पसंद आई होगी| हमारे इस पेज को अधिक से अधिक शेयर करें जिससे हमारा यह पेज ऐसे लोगो के पास तक पहुँच जाएं जिन्हे जिप कोड के बारे में जानकारी नहीं है|

Leave a Comment