Hichki Kyu Aati Hai? हिचकी आने के कारण और हिचकी बंद करने के घरेलू उपाय

Hichki Kyu Aati Hai?: किसी भी पुरुष या महिला को हिचकी कभी भी आ सकती है, हिचकी की परेशानी बहुत ही आम समस्या है| अधिकतर मामलो में हिचकी आती है और कुछ समय बाद अपने आप बंद हो जाती है लेकिन कुछ मामलो में हिचकी लगातार आती रहती है और जल्दी से बंद नहीं होती है| ऐसे में इंसान काफी ज्यादा विचलित हो जाता है| आमतौर पर अधिकतर इंसान हिचकी आने पर पानी पी लेते है जिससे हिचकी बंद हो जाती है लेकिन कई मामलो में पानी पीने के बाद भी हिचकी बंद नहीं होती है| जब इंसान को हिचकी की परेशानी होती है तो उसके मन में बहुत सारे सवाल आते है जैसे हिचकी क्यों आती है (hichki kyu aati hai)?, हिचकी आने के कारण कौन कौन से है?, हिचकी बंद करने के घरेलू उपाय इत्यादि| अगर आप भी हिचकी आने की समस्या से परेशान है तो हमारा यह लेख आपके लिए लाभकारी साबित होने वाला है क्योंकि आज हम अपने इस लेख में हिचकी से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध करा रहे है| चलिए सबसे पहले जानते है की हिचकी क्या होती है?

Table of Contents

हिचकी क्या है? (What is Hichki?)

जब किसी भी पुरुष या महिला के शरीर में मौजूद डायफ्राम में संकुचन होता है तो इंसान को हिचकी की समस्या का सामना करना पड़ता है| अगर आपको डायफ्राम के बारे में जानकारी नहीं है तो हम आपको बता दें की डायफ्राम एक तरह की मांसपेशी होती है जो पेट को छाती से अलग करती है| डायफ्राम की सांस लेने और सांस छोड़ने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका होती है,  जब किसी भी कारणवश डायफ्राम में संकुचन या दबाव पड़ता है तो जिस नली से आवाज निकलती है वो अचानक से बंद होकर हिच्च की आवाज निकालती है| हिचकी आने का कारण (hichki kyu aati hai) श्वसन तंत्र की परेशानी या पाचनतंत्र की खराबी भी होती है| हिचकी आने के कारण काफी सारे होते है जिनके बारे में हम आपको नीचे जानकारी दे रहे है

हिचकी के प्रकार (Types of Hiccup in Hindi)

हिचकी के बारे में तो आप ऊपर पढ़ ही चुके है, अधिकतर इंसान यह सोचते है की हिचकी एक प्रकार की होती है जबकि आमतौर पर हिचकी अलग अलग प्रकार की होती है| नीचे हम आपको हिचकी के प्रकारो के बारे में जानकारी दे रहे है

महाहिक्का हिचकी – जब किसी भी महिला या पुरुष को काफी तेजी से हिचकी आती है तो इस तरह की हिचकी को महाहिक्का हिचकी कहा जाता है।

महा-गम्भीरा हिचकी – अगर आपको गंभीर आवाज के साथ हिचकी आ रही है तो इस प्रकार की हिचकी को महा-गम्भीरा हिचकी कहा जाता है| इस प्रकार की हिचकी आने पर लापरवाही नहीं करनी चाहिए तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए|

व्येपता हिक्का हिचकी – यह हिचकी का तीसरा प्रकार होता है और इस प्रकार की परेशानी में इंसान को हिचकी लगातार नहीं आती है बल्कि रुक-रुक कर हिचकी आती है। इस तरह की हिचकी घातक हो सकती है|

READ ALSO  Uric Acid Kya Hota Hai? यूरिक एसिड के लक्षण | यूरिक एसिड की रामबाण दवा

क्षुद्रा हिक्का हिचका – इस प्रकार की हिचकी बहुत कम समय के लिए आती है और अपने आप खत्म हो जाती है| इस तरह की हिचकी काफी ज्यादा देखने को मिलती है|

हिचकी क्यों आती है? या हिचकी आने के कारण (hichki kyu aati hai)

हिचकी की समस्या पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलती है| जब किसी भी महिला या पुरुष को हिचकी की समस्या होती है तो इंसान के मन में यह सवाल आता है की हिचकी आने के कारण कौन कौन से है? या हिचकी क्यों आती है (hichki kyu aati hai) ? हिचकी आने के कारण काफी सारे होते है| जिनमे से कुछ कारणों के बारे में हम आपको नीचे जानकारी दे रहे है 

  • जब कोई भी पुरुष या महिला अस्वस्थ या असंतुलित भोजन करता है तो शरीर में कई प्रकार परेशानी देखने को मिलती है जिनमे से एक परेशानी हिचकी (hichki kyu aati hai) भी है|
  • कुछ मामलो में देखा गया है की हिचकी आने का कारण ठण्डे आहार का सेवन भी होता है|
  • जब किसी भी पुरुष और महिला को बदहजमी की परेशानी होती है तो बदहजमी की परेशानी में भी भोजन करने की वजह से भी हिचकी की समस्या उत्पन्न हो सकती है|
  • ठण्डी जगह पर रहने की वजह से भी हिचकी की समस्या (hichki kyu aati hai) देखने को मिलती है।
  • किसी ऐसी जगह जहाँ पर धुआं हो या धूल उड़ रही हो या तेज वायु चल रही हो पर जाने की वजह से हिचकी की समस्या हो सकती है|
  • हिचकी आने का कारण ज्यादा भोजन करना या भोजन करते समय बात करना भी होता है|
  • कार्बोनेटेड युक्त पेय पदार्थों का सेवन करने की वजह से भी हिचकी की समस्या हो सकती है|
  • ऐसे पुरुष जो शराब का सेवन अधिक मात्रा में करते है उनमे आम इंसानो से ज्यादा हिचकी की समस्या देखने को मिलती है|
  • हिचकी आने का कारण मानसिक तनाव भी होता है, मानसिक तनाव का असर हमारे शरीर पर काफी ज्यादा नकारात्मक पड़ता है| लगातार मानसिक तनाव में रहने की वजह से इंसान को कई सारी परेशानियो का सामना करना पड़ता है|
  • लगातार लंबे समय तक च्यूइंग गम चबाने की वजह से भी हिचकी की समस्या हो जाती है|
  • जब कोई भी पुरुष या महिला बहुत देर तक हँसता है तो ज्यादा हंसने की वजह से इंसान के शरीर में हवा चली जाती है जिसकी वजह से भी हिचकी आने की समस्या हो सकती है|
  • कुछ मामलो में दवा का सेवन करने की वजह से भी हिचकी की समस्या (hichki kyu aati hai) उत्पन्न हो जाती है|
  • हिचकी आने का कारण नींद ना आना भी होता है, जब कोई इंसान भरपूर नींद नहीं लेता है तो नींद ना पूरी होने की वजह से इंसान को कई सारी परेशानियो का सामना करना पड़ता है|
  • अधिक मात्रा में पानी पीने की वजह से भी हिचकी की समस्या हो सकती है|
  • हिचकी आने का कारण जल्दी में खाना या पीना भी होता है, जब कोई भी जल्दबाजी में खाना खाता है या पानी पीता है तो कई बार खाने पीने के साथ अतिरिक्त हवा भी शरीर में पहुँच जाती है जिसकी वजह से भी हिचकी की समस्या हो जाती है|
  • प्रेग्नेंसी में महिला की सांस लेने की प्रक्रिया सामान्य से ज्यादा हो जाती है, कुछ मामलो में इस वजह से भी हिचकी की समस्या हो जाती है|
  • प्रेग्नेंसी में पेट पर दबाव पड़ने की वजह से हिचकी की समस्या (hichki kyu aati hai) हो सकती है|

हिचकी रोकने के घरेलू उपाय

अधिकतर पुरुष या महिला हिचकी आने पर घरेलू उपाय अपनाना ज्यादा पसंद करते है| हिचकी कोई घातक परेशानी नहीं है लेकिन कुछ मामलो में इंसान को परेशान जरूर कर देती है| नीचे बताए जा रहे घरेलू उपाय को अपनाकर आप आसानी से हिचकी की समस्या से छुटकारा पा सकते है

हिचकी रोकने का घरेलू उपाय है आंवला और मिश्री

अगर आप हिचकी आने की समस्या से परेशान है और आप हिचकी रोकने के घरेलू उपाय सर्च कर रहे है तो आवंला और मिश्री आपके लिए बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है| आवंला चूर्ण और मिश्री का सेवन साथ में करने से जल्द हिचकी की समस्या से आराम मिल सकता है|

READ ALSO  Muharram Kyu Manaya Jata Hai? मुहर्रम का इतिहास

हिचकी रोकने की घरेलू दवा है नींबू और नमक

निम्बू में मौजूद औषधीय गुण और तत्व हिचकी रोकने में मददगार होते है, हिचकी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले एक गिलास गुनगुना पानी लेकर उसमे आधा नींबू और स्वादनुसार नमक डालकर अच्छी तरह से मिलकर पीने से जल्द हिचकी की परेशानी में आराम प्राप्त होता है|

हिचकी रोकने का घरेलू उपचार है हींग और मक्खन

हिचकी की समस्या से निजात दिलाने में हींग और मक्खन भी सहायक होता है, हिचकी का इलाज करने के लिए सबसे पहले चौथाई चम्मच बारीक पीसी हुई हींग और चौथाई चम्मच मक्खन लेकर दोनों को आपस में अच्छी तरह से मिलाकर सेवन करने से हिचकी की परेशानी से छुटकारा मिल जाता है|

बच्चों में हिचकी दूर करने का घरेलू इलाज है शहद

काफी सारे मामलो में हिचकी की समस्या बच्चो में भी देखने को मिलती है| अगर आपके बच्चे को हिचकी की परेशानी हो रही है तो ऐसे में शहद आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| शहद में मौजूद औषधीय गुण और तत्व हिचकी की समस्या को समाप्त करने में सहायक होते है, बच्चे को हिचकी आने पर शहद खिलाने से जल्द हिचकी की समस्या से छुटकारा मिल जाता है| अगर बच्चे में हिचकी की समस्या लगातार बनी रहती है तो लापरवाही ना करें तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें|

हिचकी बंद करने का रामबाण इलाज है पानी

लगभग सभी इंसानो ने यह सुना होगा की हिचकी आने पर पानी पी लो| हालाँकि यह बात सच भी है जब भी किसी भी इंसान को हिचकी की समस्या हो रही हो तो उस इंसान को पानी पिलाना चाहिए| पानी पीने से बहुत जल्द हिचकी की परेशानी से छुटकारा मिल जाता है|

हिचकी को बंद करने में सहायक है चीनी

चीनी का इस्तेमाल तो सभी घरो में किया जाता है लेकिन अधिकतर इंसानो को यह नहीं पता होता है की चीनी हिचकी की समस्या से छुटकारा दिलाने में सहायक होती है| चीनी में मौजूद औषधीय गुण और तत्व हिचकी को बंद करने में मददगार होते है| किसी भी इंसान को जब हिचकी की परेशानी हो रही हो तब एक चम्मच चीनी का सेवन चूस चूस कर करने से बहुत जल्द आराम मिलता है|

हिचकी रोकने में सहायक है काली मिर्च

काली मिर्च के बारे में तो आप सभी अच्छी तरह से जानते ही है, काली मिर्च का इस्तेमाल सभी घरो में मसाले के रूप में किया जाता है| काली मिर्च हमारे शरीर के लिए बहुत ज्यादा लाभकारी होती है| अगर आप हिचकी की समस्या से पीड़ित है और आप हिचकी रोकने की घरेलू दवा या हिचकी बंद करने का देसी इलाज सर्च कर रहे है तो काली मिर्च आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है| काली मिर्च में मौजूद गुण और तत्व हिचकी को रोकने में सहायक होते है, इसीलिए हिचकी आने पर दो या चार काली मिर्च लेकर मुंह में रख कर चूसें| काली मिर्च चूसने से जल्द हिचकी से समस्या समाप्त हो जाती है|

हिचकी का इलाज करने में असरदायक है दालचीनी

शायद ही कोई घर हो जिसमे आपको आसानी से दालचीनी ना मिलें क्योंकि दालचीनी का इस्तेमाल गरम मसाले में किया जाता है| दालचीनी खाने का स्वाद बढ़ने के साथ साथ हमारे शरीर के लिए भी लाभकारी होती है| दालचीनी में मौजूद तत्व हिचकी की समस्या को समाप्त करने में सहायक होते है| हिचकी की समस्या होने पर दालचीनी का एक टुकड़ा मुंह में डालकर धीरे धीरे चूसने से बहुत जल्द हिचकी की परेशानी से आराम मिलता है| दालचीनी को आप हिचकी रोकने का घरेलू उपाय या हिचकी रोकने की दवा भी कह सकते है|

हिचकी रोकने के घरेलू उपचार है पीनट बटर

वर्तमान में शायद ही कोई इंसान हो जिसे पीनट बटर के बारे में जानकारी ना हो, पीनट बटर बच्चो से लेकर बड़ो तक सभी को पसंद आता है| पीनट बटर खाने में स्वादिष्ट होने साथ साथ शरीर के लिए भी लाभकारी होता है| लेकिन काफी कम इंसानो को पता होता है की पीनट बटर हिचकी की समस्या को समाप्त करने में सहायक होता है| अगर आपको बार बार हिचकी आ रही है तो ऐसे में एक चम्मच पीनट बटर का सेवन करने से जल्द आराम मिलता है|

READ ALSO  Height Kaise Badhaye? हाइट बढ़ाने के लिए क्या खाएं?

हिचकी रोकने का देसी इलाज है अदरक

सर्दियों के मौसम में अदरक का सेवन काफी ज्यादा किया जाता है, अदरक कई सारी परेशानियो को दूर करने में सहायक होता है| आर आप हिचकी की समस्या से ग्रसित है और आप हिचकी बंद करने का घरेलू उपचार या हिचकी बंद करने आयुर्वेदिक दवा सर्च कर रहे है तो अदरक आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| हिचकी की परेशानी होने पर अदरक का एक छोटा सा टुकड़ा लेकर मुंह में रख लें, फिर धीरे धीरे अदरक को चूसने से हिचकी की समस्या समाप्त हो जाती है|

हिचकी बंद करने का आयुर्वेदिक उपचार है नींबू 

यह तो आप ऊपर पढ़ ही चुके है की अधिक मात्रा में शराब पीने की वजह से भी हिचकी की समस्या हो जाती है| इसीलिए अगर आपको शराब पीने की वजह से हिचकी की समस्या हो रही है तो ऐसे में नींबू आपके लिए फादेमंद साबित हो सकता है| हिचकी आने पर नींबू का एक टुकड़ा लेकर मुंह में डालकर चबाकर सेवन करने से जल्द हिचकी आनी बंद हो जाती है|

हिचकी बंद करने में असरदायक है लंबी सांस लेना

अघरि या लंबी सांस लेने के फायदे काफी सारे होते है लेकिन काफी कम इंसानो को पता होता है की गहरी सांस लेने से आप हिचकी की समस्या से भी छुटकारा प्राप्त कर सकते है| जब भी आपको हिचकी आने की समस्या हो रही हो तो उस समय पर गहरी सांस लेकर सांस को कुछ सेकंड के लिए रोक कर छोड़ दें ऐसा करने से हिचकी आना बंद हो जाती है| ख्याल रखें सांस को बहुत अधिक देर बिलकुल ना रोकें|

हिचकी बंद करने की देसी दवा है इलाइची

इलाइची के बारे में तो सभी बहुत अच्छी तरह से जानते ही है, इलाइची का इस्तेमाल चाय से लेकर कई प्रकार की स्वीट डिशेस बनाने में किया जाता है| इलाइची स्वादिष्ट होने के साथ साथ फायदेमंद भी होती है| इलाइची में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण और तत्व हिचकी की समस्या को समाप्त करने में मददगार होते है| हिचकी बंद करने की दवा बनाने के लिए सबसे एक बर्तन में एक गिलास पानी डालकर गर्म होने के लिए रख दें, जब पानी गर्म हो जाएं तब उसमे दो से तीन इलाइची कूट कर डाल दें| पानी को अच्छी तरह से उबाल लें, फिर गैस को बंद कर दें| जब पानी ठंडा हो जाएं तो छान लें, फिर इस पानी को पीने से जल्द हिचकी की परेशानी से निजात मिलती है|

हिचकी को रोकने का आयुर्वेदिक इलाज है सोंठ और हरड़

सोंठ के बारे में तो सभी अच्छी तरह से जानते ही है लेकिन हरड़ के बारे में कुछ लोगो को ज्यादा जानकारी नहीं होती है| हरड़ पेट से सम्बंधित परेशानियो को दूर करने में सहायक होती है| अगर आप हिचकी की समस्या से छुटकारा पाना चाहते है तो सोंठ और हरड़ का मिश्रण आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| सबसे पहले सोंठ और बड़ी हरड़ बराबर मात्रा में लेकर उन्हें महीन पीसकर चूर्ण बना लें| सोंठ और हरड़ के मिश्रण का सेवन पानी के साथ करने से हिचकी की परेशानी से छुटकारा मिलता है| लेकिन हम आपको सलाह देंगे की इस नुस्खे को अपनाने से पहले वैध से परामर्श जरूर लें| 

हिचकी आने के नुक्सान

आमतौर पर हिचकी के नुक्सान कम ही देखने को मिलते है| लेकिन कुछ मामलो में हिचकी आने से कुछ परेशानियां भी देखने को मिलती है

  1. लगातार हिचकी आने से इंसान विचलित हो जाता है|
  2. ज्यादा हिचकी आने से पेट की मांसपेशियो पर जोर पड़ता है| कुछ मामलो में बहुत ज्यादा हिचकी आने पर पेट में दर्द की परेशानी भी हो सकते है| 
  3. लगातार हिचकी की समस्या होने पर लापरवाही नहीं करनी चाहिए क्योंकि यह किसी बिमारी का संकेत भी हो सकता है|

निष्कर्ष –

हम आशा करते है की आपको हमारे लेख हिचकी क्यों आती है (hichki kyu aati hai)? हिचकी बंद करने के घरेलू उपाय में दी गई जानकारी पसंद आई होगी| ऊपर हमने आपको हिचकी क्यों आती है? और हिचकी दूर करने के घरेलू उपायों के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई है लेकिन हम आपको सलाह देंगे किसी भी घरेलू नुस्खे को अपनाने से पहले किसी वैध से परामर्श जरूर लें| अगर आपको हमारे लेख में दी गई जानकारी पसंद आई है तो लेख को अधिक से अधिक शेयर करके ऐसे इंसानो के पास तक पहुँचाने में मदद करें जो हिचकी आने की समस्या से पीड़ित है|

Leave a Comment